रविवार, 22 अप्रैल 2012 | By: हिमांशु पन्त

निराकार - हाइकु


तुम वक़्त हो,

तो क्या डर जाऊं मैं,

बीत जाओगे.
-------------------------------------


इंतेहां ख़त्म,

सब्र किया बहुत,

जल जाओगे.
-------------------------------------

जलता जिस्म,

ग्रीष्म है अति प्रचंड,

कब आओगे.
-------------------------------------


आकाश देखो,

दमक रहा ढीठ,

हार जाओगे.

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें