मंगलवार, 6 अप्रैल 2010 | By: हिमांशु पन्त

पराई सड़क..

एक एहसास है मेरे मन का, किसी एक रास्ते को खो देने का दर्द, वो रास्ता जिससे गुजरने मे कभी मुझे दिन भर की खुशियाँ एक पल मे ही मिल जाती थी.. पर आज वो ही सड़क पता नहीं क्यूँ एकदम अजनबी सी है... कदम तो अब भी उधर मुड़ते हैं पर एक अजीब से डर के साथ.. डर उस सड़क के खो जाने का.. उस सड़क की छाँव के खो जाने का.. मंजिल मे न पहुँच पाने का...

मन मे एक मायूसी सी आज फिर छाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

चलता था किसी भी राह पे, कदम खुद मुड़ जाते थे,
उसकी गलियों से गुजरने को, बहाने हर पल बनाते थे.
पर आज उन राहों पे सिर्फ और सिर्फ तन्हाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

दिख जाये बस झलक उसकी, आरजू हमेशा होती थी,
चेहरा जिधर भी होता, नजरें उसको कभी न खोती थी,
पर आज आँखों पे सिर्फ उसकी अधूरी परछाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

बहुत दूर जा चुकी वो, पर अक्स अब भी मेरे पास है,
यादों को भुला भी दूं, तो मन मे उसका एहसास है,
पर उसको सोचने मे भी तो अब खुद की ही रुसवाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

आज भी गुजरता हूँ उन्ही राहों से, तलाशते हुए उसको,
थक सा गया हूँ बेरुखी से, दर्द देता हूँ अब खुद को,
पर खो चुका हूँ उसे मै अब यही मेरी सच्चाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

इस राह के आखिर मे सिर्फ एक अँधेरी खाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

13 comments:

Shekhar kumawat ने कहा…

इस राह के आखिर मे सिर्फ एक अँधेरी खाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

bahut khub

shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/

Udan Tashtari ने कहा…

इस राह के आखिर मे सिर्फ एक अँधेरी खाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.

-क्या बात है!

यही अहसास बच रहते हैं.

pink_paliwal ने कहा…

rachna to khubsurat he....ek baat apki saari rachano me dard hee....kaun he apki prerna...............

हिमांशु पन्त ने कहा…

bahut bahut dhanyawad pasand karne ke liye... hamesa sarahna hi aur likhne ki prerna deti hai..

cheytnaditya Alok ने कहा…

bahut achha likh rahe hain. aise hi likhte rahie.

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

अच्छी कविता ,बधाई स्वीकार करें
और लिखते रहें

मनोज कुमार ने कहा…

अच्छी रचना। बधाई। ब्लॉगजगत में स्वागत।

हिमांशु पन्त ने कहा…

aap sab ki badhai sir aankhon pe... bahut bahut dhanyawad.. bas kosis karta rahunga ki kavya jagat ko kuch swasth rachanyaein de sakoon.. kitna de paya aap log tai karna..

kshama ने कहा…

दिख जाये बस झलक उसकी, आरजू हमेशा होती थी,
चेहरा जिधर भी होता, नजरें उसको कभी न खोती थी,
पर आज आँखों पे सिर्फ उसकी अधूरी परछाई है,
हाँ मुझे एहसास है की वो सड़क अब पराई है.
Harek lafz khoobsoorat hai!

शशांक शुक्ला ने कहा…

क्या बात है बहुत सुंदर लिखा है

Anurag Geete ने कहा…

ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है... हिंदी में आपका लेखन सराहनीय है, इसी तरह तबियत से लिखते रहिये.

संगीता पुरी ने कहा…

इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

शोभित जैन ने कहा…

ये परायी सड़क हमारे दिल में बहुत गहरे तक समायी है ...

एक टिप्पणी भेजें