रविवार, 25 अप्रैल 2010 | By: हिमांशु पन्त

एक ग़ज़ल

वैसे तो ग़ज़ल मे लिखता नहीं.. और ना ही मेरी इतनी औकात है.. पर फिर भी कुछ कचोटा सा मन आज किसी बात से, तो बस एक कोशिश भर कर दी... देखें कितना सफल हुआ हूँ....  



तेरे अहद-ए-तरब ने कुछ इस ढब अश्क बार किया,

मेरी खरोश से तो दहर भर ने भी अश्क बार किया.



कुछ अघ्लाब से आशना ने हम पे वासिक वार किया,

क़ल्ब तो रोया ही मगर पैकर ने भी अश्क बार किया.



दम-बा-दम तुने खवाबों को इस कदर तार तार किया,

दयार-ए-खुफ्तागां मे बंद नजर ने भी अश्क बार किया.



कुछ इस कदर हमने लम्हात-ए-याद-ए-यार किया,

मेरा दर्द अंगेज दीद हरेक पहर ने भी अश्क बार किया.



खामोशियों मे जब कभी बसर करने का काविश किया,

तेरा जिक्र सुझा कहीं तब हर दर ने भी अश्क बार किया.


 
वक़्त की हर एक सुई  कुछ  इस कदर तेरे दस्तों दे दी थी,

वापिस माँगा तो मेरे हरेक  सफ़र ने भी अश्क बार किया.

कुछ कठिन शब्दों के अर्थ..
 


अहद-ए-तरब - खुशनुमा वक़्त मे किये गए वादे
खरोश - चीखना या रोना
दहर - जमाना
अघ्लाब - इस कदर
आशना - मोहब्बत या कोई दिल के करीब
वासिक - कठोर
दयार-ए-खुफ्तागां - सोती हुई दुनिया
दस्तों - हाथों
काविश - सोचा

13 comments:

वीनस केशरी ने कहा…

जनाब अगर यह पहली कोशिश है तो आपकी कोशिश रंग लाई

दिली दाद कबूल फरमाएं

जब याद करते है की हमारी पहली कोशिश क्या थी तो वो इसके सामने कही नहीं ठहरती

संजय भास्कर ने कहा…

हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Udan Tashtari ने कहा…

मेरा कमेंट कहाँ गुम हो गया इस उम्दा रचना पर?

हिमांशु पन्त ने कहा…

baap re... "sameer" sir aapka comment to 4 chand kya balki 8 - 10 chand laga deta hai kisi bhi blog pe...wo bhala kaise gum ho sakta hai.. alag sa chamakta hai hamesa sir..

कविता रावत ने कहा…

वक़्त की हर एक सुई कुछ इस कदर तेरे दस्तों दे दी थी,
वापिस माँगा तो मेरे हरेक सफ़र ने भी अश्क बार किया.
...Itne achhi gajal ban gayee aur aapne likha hai ki ना ही मेरी इतनी औकात है..
Gajal likhne ke liye aukaut jaisi koi baat nahi..
Bahut sundar prayas bahut achha laga...likhte rahiye.....haardik shubhkamnayne

हिमांशु पन्त ने कहा…

bahut shukragujaar hoon aap sabhi ko ki aapne meri is pahli kosish ko ek jaan di... dhanyawad.

राकेश कौशिक ने कहा…

सार्थक एवं प्रसंशनीय प्रयास - शुभकामनाएं

veerubhai ने कहा…

bahut shukriyaa badi meharbaani gazal ki duniyaa me huzoor askbaar aaye
aaye kuchh abr, kuchh sharaab aaye
uske baad aaye ,jo azaab aaye
veerubhaai1947.blogspot.com

हिमांशु पन्त ने कहा…

bahut bahut sukriya janab.. ye jo najm kahi hai aapne .. dil khus ho gaya..

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत सुन्दर गज़ल है. गज़लगो बेहतर समीक्षा करेंगे, मै तो केवल भावपक्ष ही पढ पाती हूं.

परमजीत बाली ने कहा…

सुन्दर गजल है बधाई।

kshama ने कहा…

कुछ इस कदर हमने लम्हात-ए-याद-ए-यार किया,

मेरा दर्द अंगेज दीद हरेक पहर ने भी अश्क बार किया.
Waise to har sher apni jagah mauzoom hai..kya kahun?

हिमांशु पन्त ने कहा…

tahe dil se shukriya ada karna chahunga aap sabhi ka.. hausla badhane ke liye..

एक टिप्पणी भेजें