बुधवार, 29 अगस्त 2012 | By: हिमांशु पन्त

सफ़ेद कमीज

पगडण्डी किनारे कुछ निहारता सा चला,

देखा जो कुछ जहन में उतारता सा चला,

मोटी रोटियाँ सिंक रही थी कहीं इंटों पे,

तो कहीं कुछ बीड़ियाँ सुलग रही थी,

मगर बड़े खुश थे ये जैसे कोई दर्द नहीं,

जहाँ से अनजान से वो मस्त से चेहरे,

कहीं बर्तन पे चावल भी उबल रहे थे,

तो किसी रोटी पर प्याज कटा रखा था,

मन किया की मै भी थोडा चख के देखूं,

मगर मेरी कमीज कुछ ज्यादा सफ़ेद थी.

3 comments:

deepak ने कहा…

very nice fitness quotes for women-motivation456

deepak ने कहा…

very nice monday fitness quotes-motivation456

kjdhgsj ने कहा…

Solve crossword puzzles to progress in the story! Beat and complete these crossword levels to unlock new chapters and new rooms to renovate and decorate! Explore the manor’s garden or the garage, renovate the library and create your own party room to celebrate!

Wordington Words & Design mod apk

एक टिप्पणी भेजें