बुधवार, 29 अगस्त 2012 | By: हिमांशु पन्त

यहाँ कोयले से अरबों की दावत हो चुकी है

लबों को सीने की तो अब आदत हो चुकी है,
पेट भरने की जुस्तजू सियासत हो चुकी है,
उन लोगों को क्या इल्जाम दें जो की गैर हैं,
यहाँ तो अपनों की ही खिलाफत हो चुकी है।

बेईमानी तो अपनों की इबादत हो चुकी है,
चूल्हा जलाना भी अब आफत हो चुकी है,
रसोई गैस के दामों को रोने वालों समझो,
यहाँ कोयले से अरबों की दावत हो चुकी है।

7 comments:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत क्गूब .... अच्छा लपेटा है कोयले के दलालों को ....

Exotic irfa ने कहा…

Wow amazing article dear, I found what I was looking for, thanks for sharing this information

RAHUL CHAUHAN ने कहा…

I believe you have observed some very interesting details , thankyou for the post.:-)(s)
thankyou for the post:-)(s)
:-)

deepak ने कहा…

very nice Last Vermont Christmas

deepak ने कहा…

very nice famous quotes by famous people-motivation456

Garima Joshi ने कहा…

Amazing Poem
Hindi Buzines Bytes

kjdhgsj ने कहा…

Solve crossword puzzles to progress in the story! Beat and complete these crossword levels to unlock new chapters and new rooms to renovate and decorate! Explore the manor’s garden or the garage, renovate the library and create your own party room to celebrate!

Wordington Words & Design mod apk

एक टिप्पणी भेजें